नेवी में शामिल हुई सबमरीन खांदेरी, टॉरपीडो के साथ ट्यूब से भी दागेगी एंटी शिप मिसाइल

नेवी में शामिल हुई सबमरीन खांदेरी, टॉरपीडो के साथ ट्यूब से भी दागेगी एंटी शिप मिसाइल

मुंबई-- इंडियन नेवी की ताकत को और बढ़ाने के लिए गुरुवार सुबह एडवांस्ड टेक्नोलॉजी वाली खांदेरी सबमरीन को नेवी में शामिल किया गया। मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (एमएसडीएल) में डिफेंस स्टेट मिनिस्टर सुभाष भामरे ने इसे इंडियन नेवी को सौंपा। नेवी में शामिल होने के बाद इसके कई ट्रायल होंगे। इसके बाद ही इसे नेवी के वार जोन में जगह दी जाएगी। शिवाजी महाराज के किले से मिला नाम...- खांदेरी सबमरीन को मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (एमडीएल) ने फ्रांस के मैसर्स डीसीएनसी के साथ मिलकर बनाया है।- इस सबमरीन का नाम समुद्र के बीच टापू पर बने शिवाजी महाराज के खांदेरी किले के नाम पर रखा गया है। -किले ने 17th सेंचुरी में समुद्र में मराठों की ताकत को साबित करने में अहम किरदार निभाया था। - खांदरी दुश्मन के रडार से बच सकती है। इसे भारत में ही तैयार किया गया है।- स्कॉर्पीन सीरीज की यह दूसरी सबमरीन है। इससे पहले अप्रैल 2015 में कलवरी सबमरीन को समुद्र में उतारा गया था।कड़े टेस्ट से पास करना होगा- 12 जनवरी को समुद्र में उतारे जाने के बाद खांदेरी सबमरीन को दिसंबर 2017 तक कई मुश्किल टेस्ट से गुजरना होगा।- इसमें बंदरगाह और समुद्र दोनों तरह के टेस्ट शामिल हैं। भारतीय नौसेना में पहली खांदेरी पनडुब्बी 6 दिसंबर 1986 में कमीशन हुई थी।- करीब 20 साल तक देश की सेवा करने के बाद 18 अक्टूबर 1989 इसे नेवी से रिटायर किया गया।खांदेरी की खासियत- यह दुश्मन का पता लगते ही उस पर गाइडेड हथियारों से हमला कर सकती है।- यह पानी के नीचे से और सतह से दोनों तरह से दुश्मन पर हमला कर सकती है।- इससे टॉरपीडो के साथ-साथ ट्यूब से भी एंटी शिप मिसाइलें दागी जा सकती हैं।- इसकी स्टैल्थ टेक्नीक इसे दूसरी सबमरीन्स के मुकाबले शानदार व बेजोड़ बनाती है।- इस सबमरीन वे सभी काम कर सकती है, जो दूसरी सबमरीन्स करती हैं। जैसे- एंटी अंडरग्राउंड वॉर, एंटी सबमरीन वॉर, इंटेलिजेंस इनपुट्स देना और सर्विलांस करना।

LEAVE A COMMENT